Breaking Newsविविध
Trending

अखिलेश यादव ने बनाई आजम खां से दूरी तो फ्रंट पर आ गए मुलायम

मुकदमों के बाद सांसद आजम खां के बचाव में मंगलवार को मुलायम सिंह यादव भले ही खुलकर सामने आए लेकिन राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव का दूरी बनाए रखना चर्चा का विषय बना हुआ है...

लखनऊ. सपा से रामपुर सांसद आजम खां को रामपुर जिला प्रशासन ने जमीन पर कब्जा करने के मामले में भू-माफिया घोषित किया है। इसके साथ ही आजम खां के खिलाफ करीब छह दर्जन मुकदमे दर्ज होने के बाद समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव को आजम खां के पक्ष में फ्रंट पर आना पड़ा। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भले ही आजम खां से इस मामले में दूरी बनाई, लेकिन पुराने नेता के पक्ष और बचाव में पार्टी के संस्थापक खड़े हो गए।

आजम पर दर्ज हो रहे ताबड़तोड़ मुकदमों के बाद उनके बचाव में मुलायम सिंह यादव भले ही खुलकर सामने आए हों लेकिन सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव का आजम से दूरी बनाए रखना चर्चा का विषय बना हुआ है। केवल अखिलेश ही नहीं, समाजवादी पार्टी का कोई शीर्ष नेता मंगलवार को पत्रकार वार्ता में मुलायम सिंह यादव के साथ नहीं दिखा। प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल, नेता विरोधी दल राम गोविंद चौधरी और विधानपरिषद में दल नेता अहमद हसन भी आज उनके साथ मौजूद नहीं थे।

मुलायम की पत्रकार वार्ता करीब 40 मिनट देर से शुरू हो सकी। उनके सभागार में आने से पहले ही मंच से फालतू कुर्सियों को हटा दिया गया था। केवल मुलायम सिंह की कुर्सी मंच पर लगी थी। समाजवादी पार्टी के अन्य नेताओं की गैरहाजिरी पर टिप्पणी करने से पार्टी वरिष्ठ पदाधिकारी कतराते रहे। आजम खां के मामले को लेकर पार्टी में एक राय न होना चर्चा में है।

सूत्रों का कहना है कि मुसीबत के समय पार्टी का समर्थन न मिलने की शिकायत को लेकर आजम की पत्नी तजीन फातिमा रविवार को मुलायम सिंह यादव से मिली थीं और उनसे अपने परिवार को बचाने की गुहार लगाई थी। इसी के बाद मुलायम उनके समर्थन में खुलकर सामने आए। दबी जुबान से लोग कह रहे हैं कि आजम खां के परिवार को अब पार्टी से उनके मामले में समर्थन की उम्मीद नहीं है।

1989 में पहली बार सीएम बनने पर मुलायम सिंह ने आजम को कैबिनेट मंत्री बनाया था। वहीं, जब 4 अक्टूबर 1992 को जब एसपी का गठन हुआ तो मुलायम की अगुआई में आजम इसके संस्थापक सदस्य बने। यही नहीं पार्टी का संविधान लिखने में भी उनकी अहम भूमिका रही।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close