Breaking News

लखनऊ पुलिस लाइन में सृजन शक्ति वेलफ़ेयर सोसाइटी द्वारा अनीमिया के खिलाफ चलाया गया जागरूकता अभियान

जागरूकता कार्यक्रम में 400 से अधिक प्रशिक्षु महिला कांस्टेबल रहीं शामिल!

न्यू कल्ली पश्चिम पुलिस लाइन लखनऊ में आज रंगमंच कलाकार व समाजसेविका डॉ. सीमा मोदी के निर्देशन में सृजन शक्ति वेलफ़ेयर सोसाइटी के तत्वावधान में “अनीमिया मुक्त भारत” के मिशन को सफल बनाने के लिए एनीमिया के खिलाफ जागरूकता अभियान कार्यक्रम आयोजित हुआ, जिसमे लगभग 400 से अधिक प्रशिक्षु महिला कांस्टेबल शामिल रहीं।

मुख्य अतिथि न्यायाधीश आर. पी. शुक्ला ( HJS), प्रमुख वक्ता डॉक्टर अपेक्षा विश्नोई , डॉक्टर शिवा तिवारी, डॉक्टर तरुणी, योग गुरु पंकज चौधरी, एक्यूप्रेशर थेरेपिस्ट, डॉक्टर भूपेंद्र कुमार मौर्या, राष्ट्रीय उद्योग आश्रम इंटर कॉलेज के प्रिन्सिपल, कौशलेंद्र श्रीवास्तव, संस्था के अध्यक्ष बी. एन. ओझा, सूबेदार मेजर कल्ली पुलिस लाइन श्री सुनील कुमार व संस्था की संयुक्त सचिव सौम्या मोदी मौजूद रही ।

मुख्य अतिथि न्यायाधीश आर पी शुक्ला ( उच्यतर न्यायिक सेवा) ने कहा कि जागरूकता के अभाव में लड़कियों / महिलाओं में कुपोषण की समस्या पाई जाती है , चाहे उसका परिवार आर्थिक रूप से मजबूत हो या नही हो । झारखण्ड, बिहार, उत्तर प्रदेश में सामाजिक कार्य, रंगमंच व विविध सांस्कृतिक कार्यों में सक्रिय सृजन शक्ति वेलफ़ेयर सोसायटी की महासचिव डॉ. सीमा मोदी जो लगातार सामाजिक कार्यों के तहत एनीमिया के खिलाफ जागरूकता अभियान स्कूल, कॉलेज व गाँवो में लड़कियों व महिलाओं के लिए चलाती है, ने इस अभियान को आगे दिशा देते हुए, न्यू पश्चिम पुलिस लाइन में ट्रैनिंग कर रही लगभग 400 सिपाहियों को एनीमिया के खिलाफ जागरूकता अभियान से जोड़ा

एनीमिया के कारण, निदान सम्बन्धित विषयो पर चर्चा करते हुए डॉ. सीमा मोदी ने कहा कि एनीमिया कोई बीमारी नही है लेकिन समय से जागरूक नही हुए तो बीमारी का कारण ज़रूर बन सकती है ।

योग गुरु पंकज कुमार चौधरी ने खान-पान के तरीकों, दिनचर्या व उपस्थित लोगों के प्रश्नों का उत्तर दिया । उन्होंने बताया कि योग के द्वारा कैसे खून की कमी दूर की जा सकती है -कुछ आसन, प्राणायाम और मुद्रा का अभ्यास करके एनीमिया को जड़ से दूर कीया जा सकता है । जैसे तितली आसन, मकर आसन, सुर्य नमस्कार के 1 या 2 चक्र इत्यादि । कपालभाति प्राणायाम, नाडी शोधन प्राणायम, भ्रामरी प्राणायाम वरुण मुद्रा इत्यादि । उन्होंने कहा कि शरीर के पाचन में जो भी इंटरनल ऑर्गन शामिल होते हैं, जैसे पेट, इंटेस्टाइन, किडनी, व लिवर इनको सक्रिय करने वाले अभ्यास करा कर एनीमिया को दूर किया जा सकता है ।

स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर अपेक्षा विश्नोई ने कहा कि आज भी पूरे देश मे लगभग 80 प्रतिशत महिलाओं में खून की कमी पाई जाती है और पूरे विश्व मे 60 प्रतिशत। रोग प्रतिशोधक क्षमता कम हो जाती है । इसलिए खाने में फल और हरी सब्जियां बहुत ज़रूरी है । जंक फूड से दूर रहें। पेट मे कीड़े होने से खून नही बन पाता है ।इसलिए हर 6 महीने में कीड़े की दवा लेते रहना चाहिए । महिलाओं को एनीमिया से बचने के लिए सबसे पहले खुद को महत्व देना सीखना होगा । माहवारी के दौरान जल्दी-जल्दी या अधिक रक्तस्राव का होना एनीमिया को निमंत्रण देना है अत: ऐसी किसी भी समस्या का तुरंत इलाज कराए। साथही अनचाहा गर्भ रुकने पर महिलाएं अक्सर गर्भपात कराने को मजबूर होती है, जिसमें भी बहुत रक्तस्राव होता है। इसलिए सुरक्षित व नियमित गर्भनिरोधक का प्रयोग करें जिससे ऐसी किसी अनचाही, अपात स्थिति से बचा जा सके।

बी. एन. ओझा ने कहा की शारीरिक व्यायाम बहुत ज़रूरी है खान पान का ध्यान रखना – हरी सब्जियों का उपयोग करना जैसे: पालक, सहजन, चौलाई इत्यादि । फलों में–सेब, अनार, अमरूद इत्यादि जरूर खाना चाहिए ।

डॉक्टर तरुणी लालचन्दी ने कहा कि अनीमिया के लक्षण में चक्कर आना ,सांस फूलना , थकान महसूस होना आदि होता है। सही दिनचर्या ,अच्छा खान पान इसका उपाय है।

सूबेदार मेजर कल्ली पुलिस लाइन ने इस कार्यक्रम की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस तरह का कार्यक्रम मौजूदा सामाजिक परिवेश महिलाओं के बेहतर जीवन के लिए बहुत आवश्यक होती है एनीमिया तथा उससे संबंधित जानकारी उनके बेहतर स्वस्थ शरीर तथा उनके परिवार को एक नई दिशा एवं ऊर्जा दे सकती है । इसलिए स्वास्थ्य से जुड़े इस प्रयास में हम हर स्तर पर आपके साथ जन जागरण के उद्देश्य से सहयोग करने हेतु तैयार है।

एक्यूप्रेशर थेरेपिस्ट डॉक्टर भूपेंद्र कुमार मौर्य ने कहा कि एक्यूप्रेशर के द्वारा अनीमिया का सफलतापूर्वक इलाज या एनिमिक होने से बचा जा सकता है और इसमें सबसे कम खर्च भी होता है ,परमानेंट ठीक भी हो जाता है।

समाजसेवी आयुष चतुर्वेदी ने कहा ऐसे कार्यक्रम समाज को एक नई दिशा देने का कार्य करते है।

नुक्कड़ नाटक के ज़रिए स्वछता , स्वास्थ्य की जागरूकता को बढ़ाया गया। एलम्बिक फार्मा की तरफ से सभी महिलाओ का हीमोग्लोबिन टेस्ट किया गया तथा आयरन की दवाई भी दी गयी ।

डॉक्टर भूपेंद्र सिंह की ओर से फल वितरण किया गया.

फोटोग्राफी शिवम सिँह, वीडियग्राफी एस एस डिजिटल लैब तथा प्रचार प्रसार फर्स्ट इम्प्रेशन द्वारा किया गया.


कार्यक्रम में मुख्य रूप से दुर्गेश पांडेय , कौशिक ,राज बाजपेई , अभिषेक , अभिषेक सिँह,विकास कुमार, प्रतीक कुमार, दिशा श्रीवास्तव आदि उपस्थित रहे।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close